आजकल समय की इतनी कमी क्यों है? | Time Management Tips

आज मैं आपको एक ऐसे विषय में बताना चाहता हूँ जिसकी कमी आजकल सभी लोगो को है। दुनिया में करोड़पतियों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है , लोगों के जीवन की Quality बढ़ती जा रही है , Population बढ़ती जा रही है , Technology का प्रयोग बढ़ता जा रहा है , हर जगह Development होता जा रहा है लेकिन एक चीज  कमी लोगो के पास होती जा रही है और वह है —“समय की कमी” ।

आजकल किसी के भी पास जाओ तो वह यही कहता है कि उसके पास समय नहीं है। कुछ लोग कहते हैं कि यदि मेरे पास समय होता तो मैं जीवन में  कुछ कर पाता।

समय की इतनी कमी हो गई है कि इसकी कमी की वजह से बहुत सी समस्याएं सामने रही हैं—–

1- समय पर काम न होने पर हम तनाव में आ जाते हैं।

2- समय की कमी की वजह से हम हर पल जल्दबाजी में रहते हैं।

3- समय की कमी की वजह से तनाव आता है और हमारा स्वाथ्य भी कभी कभी बिगड़ जाता है।

4- समय की कमी की वजह से हमारे सम्बन्ध बिगड़ जाते हैं और कई बार तो हड़बड़ी में Accident भी हो जाते हैं।

5- सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि समय की कमी की वजह से हम अपने लिए भी समय नहीं निकाल पाते।

यदि हम 100 वर्ष पहले की Lifestyle पर नजर डालें तो लोगो के पास बहुत सा Time था। उन दिनों के और आज के समय को लेकर कई रोचक उदाहरण दिए जा सकते हैं…….

1- उस समय हमारे पूर्वजों के पास न ही कार थी और न ही मोटरसाईकल , वह बैलग़ाडी से या पैदल यात्रा करते थे फिर भी उन लोगो को कहीं भी पहुँचने की जल्दबाजी नहीं थी जबकि आज हमारे पास कार और मोटरसाइकिल दोनों हैं फिर भी हम लोगो को कहीं पहुँचने की बहुत जल्दबाजी रहती है।

2- पहले घरों में न ही Washing Machine  थी और न ही Mixer Grinder तथा  Microwave थे , इसके अलावा घरों में बहुत से लोग एक साथ एक बड़े परिवार में रहते थे फिर भी उस घर की महिलाओं को न ही खाना बनाने की जल्दबाजी थी और न ही कपड़े धोने के लिए समय की कमी थी जबकि आज के परिवार छोटे हैं और Washing Machine , Microwave और Mixer Grinder भी घर में मौजूद हैं फिर भी समय की कमी महसूस होती हैं।

3- उस समय लोगो के पास न तो Mobile था और न ही Internet  सुविधा थी फिर भी लोग दूसरे की खैर खबर रखते थे।  लोग एक दूसरे से मिलते रहते थे और बातचीत किया करते थे जबकि आज हमारे पास Mobile भी है और Internet की सुविधा भी है लेकिन बात करने का समय नहीं है।

क्या आपने कभी ये बात सोची है कि आजकल समय की इतनी कमी क्यों होती जा रही है???

हमारे पूर्वजों को कभी समय की इतनी कमी महसूस नहीं हुई तो हमें क्यों हो रही है???

किसी को भी और कभी भी एक दिन में 24 घंटे से ज्यादा न तो कभी मिले हैं और न ही कभी मिल पाएंगे तो फिर हमारे पूर्वजो के पास अपना काम ख़त्म करने के बाद इतना Time कैसे मिल जाता था कि वह लोगों से , रिश्तेदारों से ,दोस्तों से मिलकर बातचीत कर पाते थे???

अपने परिवार को और खुद को भी काफी Time दे पाते थे जबकि आजकल हम लोग ऐसा नहीं कर पाते हैं???

महत्वपूर्ण बात यह भी है कि हम लोगो के पास समय की कमी तब होती जा रही है जब हम लगातार ऐसे उपकरण बनाते जा रहे हैं जो समय की बचत करते हैं।

इन सभी प्रश्नों के उत्तर यदि तलाश किये जाएँ तो कई जवाब सामने आतें हैं और वह यह हैं —

1-  पहले का जीवन सरल था और अब जटिल गया है।

2- पहले घड़ी हमारे जीवन पर हावी नहीं हुई थी और आज प्रत्येक काम घड़ी देख कर होता है।

3- आधुनिक आविष्कार हमारे जीवन में समय की कमी का सबसे बड़ा कारण है।

4- हमारी इच्छाएं बहुत बढ़ती जा रही हैं।

5- उच्च जीवनशैली के लिए प्रतियोगिता के वातावरण ने जन्म ले लिया है।

6- पहले जीवन की रफ्तार धीमी थी और अब तेज गयी है।

तेज रफ़्तार से भागता जीवन अब बहुत जटिल हो गया है। इच्छाओं के बढ़ने तथा जीवन की रफ़्तार के साथ चलने के लिए बहुत से आधुनिक अविष्कारों से बनी चीजों को हमने अपने साथ जोड़ लिया है।

जिस प्रकार हमारे हाथ, पैर व शरीर के बाकी अंग हमेशा हमारे साथ चलते हैं उसी प्रकार आजकल Mobile , Internet और अन्य आधुनिक वस्तुएं हमेशा हमारे साथ ही चलती हैं ।

हम जहाँ भी जाते हैं ये वस्तुएं हमारे साथ उसी तरह चलती हैं जैसे हमारे साथ हमारे शरीर अंग चलते हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो आधुनिक वस्तुओं को लोगो ने अपना हाथ और पैर जैसा बना लिया है जिसे अलग नहीं किया जा सकता है।

इस Busy और Speedy Life से बहुत सी समस्याएं सामने आ रही हैं और इन समस्यायों को दूर या कम करने में हमारा बहुत सा समय नष्ट हो जाता है।

प्रश्न ये भी उठता है कि सब समस्याओं से कैसे निपटा जाये ???

और दो समाधान समझ में आते है……..

1- या तो आजकल के भागते और व्यस्त जीवन से दूर चला जाया जाये और आधुनिक अविष्कारों से मुक्ति पा ली जाये तो बहुत सारा समय हमारे पास होगा।

2- या फिर आधुनिक अविष्कारों जैसे Mobile , Internet आदि का प्रयोग कम कर दिया जाये जिससे Life की Business भी कम होगी और समय की भी बचत हो पायेगी।

पहला तरीका न तो आसान है और न ही व्यवहारिक है क्योकि आधुनिक आविष्कार अब शौक नहीं रह गए है  वह अब जीवन की जरुरत बन गए हैं , अब इनसे छुटकारा पाना सम्भव नहीं है।

दूसरा तरीका  कुछ आसान है और व्यवहारिक भी है क्योकि अब हमें आधुनिक अविष्कारों की वस्तुओं को छोड़ना नहीं है लेकिन उनका इस्तेमाल कम कर देना है। ऐसा करने से हम इनसे अपनी जरूरतें भी पूरी कर पाएंगे और काफी समय भी इस तरीके से बचा पायेंगे तथा समय की कमी की समस्या को भी सुलझा लेंगे।

दोस्तों !!! अपनी जीवनशैली को कुछ सरल बनायें , आधुनिक वस्तुओं का कम प्रयोग या सदुपयोग करके समय को बचायें ताकि ये कभी न कहना पड़े कि हमारे पास समय नहीं है क्योकि सफलता और असफलता के बीच की बड़ी विभाजक रेखा सिर्फ 5 शब्दों में बतायी जा सकती है कि .…… “मेरे पास समय नहीं था”।

Leave a Comment