सफलता की हत्या करने वाले हथियार | Negative Thoughts

दुनिया के प्रत्येक व्यक्ति की अपनी इच्छाएं (Desires) होती हैं और अपनी इन इच्छाओं के अनुरूप ही व्यक्ति जीवन (Life) जीना चाहता है। इन इच्छाओं में से कुछ तो जीवन में Positive Effect डालती हैं और कुछ जीवन में Negative Effect डालती हैं।

जीवन में इच्छाएं रखना तो बहुत अच्छी बात है लेकिन अपनी Negative Desires का गुलाम बन जाना और अपनी इन Negative Desires के अनुरूप ही अपने विचार बना लेना किसी भी व्यक्ति को सफलता (Success) से बहुत दूर ले जा सकता है।

हम में से बहुत से ऐसे लोग हैं जो अपनी Positive Desires को अपने जीवन में जगह नहीं देते हैं और अपनी इन इच्छाओं का गला घोट देते हैं।

बहुत से लोग जीवन में ऐसे Negative Thoughts अपना लेते हैं जिससे वह सफलता को कभी नहीं पा सकते। इन Negative Thoughts को ऐसा हथियार माना जा सकता है जो किसी के भी जीवन में असफलता को ला सकता हैं। हमें ऐसे हथियारों से बचना चाहिए।

आज मैं आपसे ऐसे ही कुछ सफलता को नष्ट करने वाले हथियारों के बारे में बात करना चाहता हूँ।

इन 5 नकारात्मक सोच से हमेशा दूर रहो
Stay away from these 5 Negative Thinking

आपसे निवेदन है कि आप इस लेख को पढ़ने के बाद बताए गए हथियारों को अपने जीवन से हमेशा के लिए दूर कर दें ताकि आप Positive Desires को अपनाएं और सफलता की राह पर चल सकें–

1- खुद को नाकाबिल समझने का विचार

बहुत से लोग अपने को नाकाबिल समझने का विचार अपना लेते हैं और पूरी जिंदगी ऐसे ही हाथ पर हाथ रखे बैठे रहते हैं। ऐसे लोगों को आपने कुछ इस तरह की बातें कहता सुना होगा–

a- “मैं ऐसा नहीं कर सकता”,

b- “मुझमे इतनी समझदारी नहीं है कि मैं यह काम कर सकूँ”,

c- “अगर मैं कोशिश करूँगा तब भी सफल नहीं हो सकता”,

d- “मेरे पास इस काम को करने के लिए अनुभव की कमी है”,

e- “मैं IAS बनना चाहता था लेकिन मैं बन नहीं सकता”, आदि।

खुद को नाकाबिल समझने के यह ऐसे विचार हैं जो कभी भी किसी को सफलता की राह पर नहीं ले जा सकते। इन विचारों को तुरंत नष्ट कर दें और Positive Thoughts को अपने जीवन में जगह दें। आप एक काबिल इंसान हैं।

2- प्रतियोगिताओं से दूर भागने का विचार

जीवन एक प्रतियोगिता भी है। बहुत से Competitions जीवन के लिए बहुत जरुरी होते हैं लेकिन इनसे दूर भागना केवल एक ही परिणाम देता है और वह है- असफलता। बहुत से लोग जीवन की प्रतियोगिताओं से दूर भागना चाहते हैं और कहते हैं–

a- “इस कार्य को करने के लिए तो पहले से ही बहुत सारे लोग हैं , मैं कैसे कर पाउँगा”,

b- “इस Company में केवल 5 Vacancy हैं और 50000 आवेदन अब तक आ चुके  है, ऐसे में मैं आवेदन करके सफल नहीं हो सकता”,

c- “अरे ! इस काम में तो एक से एक अनुभवी व्यक्ति हैं , मैं इस काम में सफल नहीं हो सकता”, आदि।

इस तरह के विचार रखने वाला व्यक्ति प्रतियोगिता का हिस्सा बनने से घबराता है और जीवन में असफल रह जाता है। अगर आपके अंदर ऐसे विचार हैं तो उन्हें तुरंत कुचल दीजिये और यह बात हमेशा याद रखिये कि किसी भी बड़ी प्रतियोगिता में सबसे पहला स्थान रखने वाला व्यक्ति भी आप जैसा ही है। जब वह सफल हो सकता है तो आप भी सफल हो सकते हैं।

3- खुद को एक सीमित दायरे में समेट लेने का विचार

कुछ लोग खुद के लिए एक दायरा बना लेते हैं और यह सोच लेते हैं कि अब इस दायरे से बाहर नहीं निकलना है। वह लोग कुछ अलग करने से घबराते हैं, कुछ नया करने की उनमे हिम्मत नहीं होती। अपने इन्ही विचारों के कारण वह कोई सफलता भी प्राप्त नहीं कर पाते हैं। ऐसे लोगों को आपने कहते सुना होगा कि-

a- “मैं जो काम कर रहा हूँ वह सही है, यह काम छोड़कर दूसरा काम करने की हिम्मत मुझमे नहीं है”,

b- “मैं जहाँ हूँ वहां सही हूँ”,

c- “इतना ही काम मेरे लिए बहुत है , इतने में ही मेरा घर का खर्च चल जाता है”,

d- “ज्यादा पैसा कमा के क्या करना है, इतने में ही मैं खुश हूँ” , आदि।

इस तरह के विचार अपने सपनों की हत्या करने वाले होते हैं। प्रत्येक व्यक्ति को अपना दायरा बढ़ाते रहना चाहिए। बहुत से सपने रखने चाहिए और उन्हें पूरा करने के लिए हमेशा कुछ अलग, कुछ नया, कुछ बड़ा करने के बारे में लगातार सोचते और करते रहना चाहिए।

4- पारिवारिक जिम्मेदारी का बहाना बनाना

पारिवारिक जिम्मेदारी (Family Responsibility) को निभाना एक बहुत अच्छी बात है लेकिन इसको अपने जीवन में असफलता का एक कारण बना लेना बहुत बड़ी गलती है। बहुत से लोगों को आपने यह बहाना बनाते सुना होगा–

a- “अब मैं किसी प्रतियोगिता की तैयारी नहीं कर सकता क्योकि अब मुझ पर पारिवारिक जिम्मेदारी आ गई है”,

b- “मैं अब नौकरी बदलने का Risk नहीं ले सकता क्योकि मेरे पास एक परिवार की जिम्मेदारी है”,

c- “अरे भाई ! पारिवारिक जिम्मेदारी के कारण बहुत से सपनों को खोना पड़ता है”, आदि।

इस तरह के विचार रखने वाले व्यक्ति न तो कभी खुद आगे बढ़ पाते हैं और न ही अपने परिवार का सही मायने में ध्यान रख पाते हैं। यह बात सही है कि बहुत से लोगों के पास सफल होने से पहले ही पारिवारिक जिम्मेदारी आ जाती है लेकिन यह बात भी सही है कि पारिवारिक जिम्मेदारी को निभाते हुए भी सफलता प्राप्त की जा सकती है।

खुद पर विश्वास रखिये, यकीन मानिये कि आप भी सफल हो सकते हैं क्योकि बहुत से लोग पारिवारिक जिम्मेदारी के साथ बहुत सी बड़ी सफलताएं प्राप्त कर चुके हैं।

5- खुद के बारे में नहीं सोचना

बहुत से लोग ऐसे होते हैं जो पूरी दुनिया के बारे में तो सोच लेते हैं लेकिन खुद के बारे में सोचने का उनके पास समय नहीं होता है। आपने कुछ लोगों से यह कहते सुना होगा–

a- “दूसरों के बारे में सोचना ही असली जिंदगी है तो अपने बारे में क्या सोचें?”

b- “हम दूसरों के बारे में सोचेंगे तभी वह हमारे बारे में सोचेंगे”,

c- “मेरी जिंदगी तो अपने परिवार के बारे में ही सोचते हुए निकल गई”,

d- “अपने बारे में सोचने का कभी Time ही नहीं मिला”, आदि।

दूसरों के बारे में सोचना बहुत अच्छी बात है लेकिन हम दूसरों के बारे में तभी अच्छा सोच सकते हैं जब खुद के बारे में अच्छा सोचें। खुद के बारे में जब आप अच्छा सोचेंगे तभी आप अच्छे बनेंगे और अच्छा बनने के बाद ही आप दूसरों के बारे में अच्छा सोच सकते हैं।

अतः खुद के बारे में सोचने का समय निकालिये। खुद को इतना मजबूत और सफल बनाइये कि आप ऐसा ही बनने के लिए दूसरों की मदद कर सकें।

यह कुछ ऐसे हथियार हैं जिनका उपयोग हम करने लगते हैं और जीवन में असफल हो जाते हैं। इन हथियारों को हमेशा के लिए नष्ट कर दीजिये वरना एक दिन यही आपको नष्ट कर देंगे।

जीवन में कुछ न करके मरने से अच्छा है कुछ अच्छा करने की कोशिश करके मर जाना। जीवन एक बार मिलता  है, अच्छा और सुखद यही होगा कि इस जीवन को सफल बनाया जाये। कुछ अच्छा सोचा जाये। कुछ अच्छा किया जाये।

7 thoughts on “सफलता की हत्या करने वाले हथियार | Negative Thoughts”

  1. accha artical hai.
    aapne sach kaha hai, jab tak hum khud haar nahi maan lete, tab tak duniya ki koi bhi takat hame hra sakti hai

    Reply

Leave a Comment