क्या कार्य करते समय आराम जरूरी है? | Hindi Story With Moral

आजकल के व्यस्त जीवन (Busy life) में सफलता पाने के लिए हमें बहुत से कार्य (Work) करने होते हैं।

कुछ ऐसे कार्य होते हैं जो आसानी से और कम समय (Time) में पूरे हो जाते हैं। ऐसे कार्य करने में लोगों को कोई परेशानी (Problem) नहीं होती।

लेकिन बहुत से ऐसे कार्य होते हैं जिन्हे लगातार (Continuously) करना पड़ता है, जिनमे मेहनत (Hard work) की जरूरत होती है और जिनको पूरा करने के लिए काफी समय भी लगता है। ऐसे कार्यों को करने के लिए लोग अलग-अलग तरीके अपनाते हैं।

कुछ लोग कहते हैं कि हमें किसी भी कार्य को शुरू करने के बाद लगातार और बिना रुके तब तक करते रहना चाहिए जब तक वह कार्य पूरा न हो जाए।

इसके अतिरिक्त कुछ लोगों का मानना है कि ऐसे कार्यों को लगातार न करके हमें बीच-बीच में आराम (Rest) कर लेना चाहिए।

अब प्रश्न यह है कि–

क्या अधिक समय लेने वाले और अधिक मेहनत वाले कार्य करते समय आराम जरूरी है???

दोस्तों! इस प्रश्न का उत्तर आपके जीवन में एक सकारात्मक बदलाव (A positive change in life) लेकर आएगा।

इस प्रश्न का उत्तर देने से पहले मैं आपको हिंदी में एक अच्छी प्रेरणात्मक कहानी (Best Inspirational story in Hindi) बताना चाहता हूँ जिसकी सहायता से उत्तर प्राप्त करना बहुत आसान हो जायेगा।

Motivational Story on “Hard work Vs Relaxation”

एक किसान के दो जुड़वाँ बेटे थे। दोनों बेटे देखने में लगभग एक जैसे थे। दोनों बहुत मेहनती (Hardworking) और होशियार (Clever) थे और दोनों में बहुत गहरी दोस्ती भी थी।

दोनों एक साथ पढ़ने के लिए स्कूल जाते थे, एक साथ खेलते थे, एक साथ खाते थे, एक साथ रहते थे।

गांव का प्रत्येक व्यक्ति उन दोनों की तारीफ (praise) करता था।

लेकिन सभी लोगों के मन (Mind) में हमेशा एक ही प्रश्न रहता था कि–

किसान के दोनों बेटों में से श्रेष्ठ कौन है???

इस बात को लेकर पूरे गांव में हमेशा चर्चा होती रहती थी।

इसे भी पढ़ें- क्या केवल Hard Work से Success मिल सकती है?

एक दिन सभी लोगों ने मिलकर यह निर्णय (Decision) किया कि किसान के दोनों बेटों की परीक्षा ली जाये ताकि यह मालूम हो सके कि दोनों में से कौन श्रेष्ठ (Superior) है।

उस समय गांव में बारिश कम होने की वजह से खेतों में पानी की कमी थी। गांव के पास में ही एक नदी थी।

लोगों ने निर्णय किया कि किसान के दोनों बेटे पूरे दिन सुबह से शाम तक बाल्टी के द्वारा नदी से पानी लेकर खेतों में डालेंगे।

किसान का जो बेटा अधिक पानी खेतों में डाल देगा वही श्रेष्ठ माना जायेगा।

अगले ही दिन सुबह से दोनों के बीच प्रतियोगिता (Competition) शुरू हो गई।

किसान का पहला बेटा लगातार बिना रुके पानी को नदी से खेतों तक पहुंचा रहा था।

लेकिन दूसरा बेटा एक घंटे पानी डालने के बाद कुछ समय के लिए रुक जाता था। कुछ समय बाद फिर से पानी डालने लगता था।

सभी लोगों को विश्वास (belief) था कि किसान का पहला बेटा ही जीतेगा क्योकि वह लगातार बिना रुके कार्य कर रहा था।

शाम हो चुकी थी।

किसान के दोनों बेटों के बीच होने वाली प्रतियोगिता अब समाप्त हो चुकी थी।

अब परिणाम (Result) बताने का समय हो चुका था।

गांव के मुखिया ने परिणाम बताया।

किसान का दूसरा बेटा जीत चुका था।

किसान का पहला बेटा जो लगातार बिना रुके कार्य कर रहा था, वह हार गया था और किसान का दूसरा बेटा जो हर एक घंटे बाद कुछ समय के लिए खाली बैठ जाता था वह जीत गया था।

सभी लोग सोच रहे थे और चर्चा कर रहे थे कि यह कैसे संभव हुआ?

तभी गांव का मुखिया सभी के सामने आया और बोला, “दोनों भाईयों ने अच्छी तरह से और मन लगाकर खेतों में पानी डाला लेकिन किसान का पहला बेटा इस प्रतियोगिता में इसीलिए हारा क्योकि वह लगातार बिना रुके हुए कार्य कर रहा था। थकान होने के बाद भी वह कार्य करता रहा।

थकान की वजह से कार्य तो लगातार हो रहा था लेकिन धीरे-धीरे हो रहा था जबकि दूसरा बेटा हर घंटे बाद कुछ समय आराम (Relax) कर लेता था जिससे उसके अंदर की थकान दूर हो जाती थी और कुछ समय बाद वह एक नई ऊर्जा (New Energy) के साथ फिर से अपने काम में लग जाता था और अपने भाई की अपेक्षा बहुत तेजी से खेतों में पानी डाल रहा था। यही उसकी सफलता का रहस्य (secret of success) है।”

Moral Of This Hindi Story

दोस्तों! इस कहानी को पढ़कर आप जान चुके होंगे कि अधिक समय (More time) लेने वाले और अधिक मेहनत (Hard work) वाले कार्य करते समय आराम (Rest) जरूरी है या नहीं???

बेशक ऐसे कार्य करते समय बीच-बीच में आराम बहुत जरूरी है।

हम अपने दैनिक जीवन (Daily life) में ऐसे बहुत से ऐसे कार्य करते हैं जैसे school या college work, exam preparation, office work या फिर कोई और work जिनमे बीच-बीच में कुछ टाइम के लिए gap बहुत जरूरी होता है।

यदि हमें अपने Life में किसी भी Big target को achieve करना हो तो भी बीच-बीच में Relax या gap बहुत जरूरी है।

अब मैं आपको बताता हूँ कि बीच-बीच में लिया गया यह gap क्यों जरूरी है?

किसी भी अधिक समय लेने वाले और अधिक मेहनत वाला कार्य करते हुए समय-समय पर Gap बहुत जरूरी है क्योंकि–

1- कार्य करते हुए बीच-बीच में आराम करने से हमारी शारीरिक थकान (Physical stress) दूर हो जाती है और हमारे अंदर एक नई ऊर्जा (New energy) भर जाती है जिसकी वजह से हम Refresh feel करते हैं। Refreshment के बाद हम उस कार्य को दोबारा उसी ऊर्जा के साथ कर सकते हैं।

2- लगातार किसी Target के लिए work करते हुए हमें Motivation की बहुत जरूरत होती है। कार्य के बीच में gap लेने से हमें motivate होने का समय मिल जाता है। Motivation से हमारे work में हमारा मन लगने लगता है।

3- कार्य के बीच-बीच में gap लेने से हम उस कार्य के लिए Planning कर सकते हैं। हम यह देख सकते हैं कि कितना work हमने कर लिया और आगे का कार्य हमें किस speed में और कैसे करना हैं। ऐसा करने से बहुत फायदा होता ह

4- कार्य करते समय हमें मानसिक थकान (Mental stress) भी हो जाती है। अब यदि gap ले लिया जाये तो हम अपनी इस मानसिक थकान को दूर कर सकते हैं। कार्य करते समय होने वाली Tension को दूर करने के लिए gap बहुत जरूरी है। Music सुनकर या कुछ समय Rest की position में बैठकर हम Tension free हो सकते हैं।

5- यदि लम्बे समय तक किसी कार्य को करने की Speed एक सी रखनी हो तो कार्य के बीच में gap बहुत जरूरी है। ऐसा करने से हम किसी भी कार्य को दोबारा उसी speed से कर सकते हैं जिस स्पीड से हमने उस कार्य को start किया था।

————-*******————

दोस्तों! यह Life changing Inspirational story आपको कैसी लगी? यदि यह Hindi story on “Hard Work with Rest” आपको अच्छी लगी तो आप इस हिंदी कहानी को Share कर सकते हैं।

इसके अतिरिक्त आप अपना Comment दे सकते हैं और हमें E.Mail भी कर सकते हैं।

यदि आपके पास Hindi में कोई Article, Inspirational story, Time management Tips, Hindi Quotes, Money Tips या कोई और जानकारी है और यदि आप वह हमारे साथ Share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ हमें E-mail करें। हमारी E.Mail Id है– [email protected] यदि आपकी Post हमें पसंद आती है तो हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ अपने ब्लॉग पर Publish करेंगे। Thanks!

2 thoughts on “क्या कार्य करते समय आराम जरूरी है? | Hindi Story With Moral”

Leave a Comment